top of page
खोज करे

मिटी जा रही जाति किंतु, तुम भूल रहे हो भूलों में

- पं. रामचन्द्रराव मोरेश्वर करकरे

प्रस्तुति - श्रीमती अनीता करकरे

वरिष्ठ कलाकार, रंगोली प्रशिक्षक

 

' शब्द-साधक ' ब्लॉग श्रृंखला के इस अंक में प्रस्तुत है साहित्य-रत्न, क्रांतिवीर

स्व. पं. रामचन्द्रराव मोरेश्वर करकरे की रचना

संदर्भ : परतंत्र भारत में हिन्दुओं के जातिगत एकीकरण पर सन् 1926 में रचित एक दुर्लभ कविता

 
 

प्रियवर सज्जन उठो उठो तुम, हृदय नेत्र को सुलझाओ ।

हिन्दजाति की हीनावस्था, देख देख कुछ शरमाओ ।

कहाँ गया वह हिंदू प्यारा ? कहाँ गया वह प्यारा नाम ?

कहाँ उसी का वह वैभव था ? कहाँ उसी का यह विश्राम ?


अर्धशताब्दी पहले जो थी, हिंदू की संख्या पूरी ।

क्या अब भी तुम उसको पाते, उतनी की उतनी भारी ?

नहीं नहीं ! प्रिय मेरे बंधु, अब भी धोखा खाते हो ।

वह आधी से भी अब कम है, फिर तुम ही क्यों सोते हो ?


उठो उठो ! भारत के प्रेमी, हृदय धरो जाति का ध्यान ।

अपनी हिन्दजाति के द्वारा, गाओ भारत का तुम गान ।

देख देख ! उस अध: पतन को, हृदय नष्ट हो जाता है ।

सुमन हिंदू के फुलवाने का, उपाय क्या कुछ दिखता है ?


नहीं नहीं ! क्यों अवश्य दिखाता, करो हिंदू का पुनरुत्थान ।

जिससे भारत का वह प्यारा, सदा सुनावे सुख का गान ।

उस सुख को पाने ही के क्या, तुम भी ना अब अधिकारी ।

नहीं नहीं ! क्यों अवश्य ही हो, क्या तुम ना जीवनधारी ।


अतः स्वच्छ सर्वांगशिरोमणि, साधन दृष्टि आता है ।

जिसको करने ही से सारा दु:ख नष्ट हो जाता है ।

छोड़ हृदय के कुविचारों को, सुविचारों को अपनाओ ।

अछूत का कुछ मन ना धारो, एक एक से मिल जाओ ।


क्या शोषित अरू वंचित जाति, क्या उनमें ना जीवन प्राण ?

क्या ईश्वर के वह ना प्राणी, नहीं जानते वह सम्मान ।

एक ईश से तुम आये हो, उसी ईश से वे आये ।

उसी बिंदु को फिर जाना है, उसी ईश ही के जाये ।


गाओ गाओ ! प्रिय हिंदू तुम, एकता का सुन्दर गान ।

ऐक्य सर्वसृष्टि का दाता, ऐक्य है जीवन का दान ।

उसी ऐक्य के द्वारा तुम भी, अपनाओ सब ईश्वर प्राण ।

नाम तुम्हारा उज्ज्वल होगा, प्रसन्न होगा वह भगवान ।


अबलाओं की, विधवाओं की, कभी ‘आह’ ना सुन आवे ।

जर्जर होकर दु:खों से वे, कभी ‘श्राप’ भी ना देंवे ।

उसी समय हिंदू का होगा, इस जीवन से पुनरुत्थान ।

वही समय शुभसूचक होगा, जब हो जावे उसका मान ।


इन कर्मों के करने ही में, हो जावो जब पूर्ण उदार ।

फिर तो हिंदू श्रेष्ठ जाति का, उसी समय होगा उद्धार ।

विनय ‘राम’ की परिणित कर दो, विचार को अब कर्मों में ।

मिटी जा रही जाति किंतु, तुम भूल रहे हो भूलों में ।

 

प्रस्तुति : श्रीमती अनीता करकरे

वरिष्ठ कलाकार, रंगोली प्रशिक्षक, ग्वालियर

राष्ट्रीय समितियों में संगठनात्मक सक्रियता

एवं महिला सशक्तिकरण कार्य

अनेक शहरों में रंगोली से जुड़े विविध कीर्तिमान

लेखक ई-परिचय - https://www.shrikrishnasaral.com//profile/karkare

 

विशेष सूचना –

प्रस्तुत ब्लॉग श्रृंखला में प्रकाशित आलेखों अथवा रचनाओं में अभिव्यक्त विचार लेखक के निजी हैं । उसके लिए वे स्वयं उत्तरदायी हैं । संपादक और प्रकाशक उससे सहमत हों, यह आवश्यक नहीं है । लेखक किसी भी प्रकार के शैक्षणिक कदाचार के लिए पूरी तरह स्वयं जिम्मेदार हैं ।

प्रस्तुत ब्लॉग श्रृंखला में प्रकाशित आलेख अथवा रचना का कोई भी हिस्सा, किसी भी स्वरूप में अथवा माध्यम में पुनः प्रकाशित अथवा संग्रहित करने हेतु, लेखक अथवा प्रकाशक से लिखित में पूर्वानुमति लेना बंधनकारक है ।

 

42 दृश्य0 टिप्पणी

हाल ही के पोस्ट्स

सभी देखें

Comments

Rated 0 out of 5 stars.
No ratings yet

Add a rating
bottom of page